प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त, यू.पी.वेस्ट एवं उत्तराखंड का चैम्बर ने किया स्वागत

प्रशासन बिजनेस

राजस्व प्राप्ति हेतु लक्ष निर्धारण में आगरा की परिस्थितियों का रखा जायेगा ध्यान, प्रमोद कुमार गुप्ता
धारा 12-ए में विधिमान्य छूट पर विचार करने के लिए सीआईटी(छूट) को दिये निर्देष।
क्षेत्रीय सलाहकार समिति में चैम्बर को दिया जायेगा प्रतिनिधित्व
करापवंचन व कर से बचाव दोनों ही अपराधिकःसीए व अधिवक्ता नियमों की करें सही व्याख्या

आगरा। नेशनल चैम्बर आॅफ इण्डस्ट्रीज एण्ड काॅमर्स, यू0पी0, आगरा द्वारा प्रमोद कुमार गुप्ता, प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त, यू.पी. वेस्ट एवं उत्तराखंड तथा प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त(छूट) के साथ बैठक व स्वागत कार्यक्रम का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता चैम्बर अध्यक्ष श्रीकिशन गोयल ने की तथा संचालन पूर्वअध्यक्ष एवं आयकर प्रकोष्ठ के चेयरमैन अनिल वर्मा ने की। समारोह में पहूॅचे प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त का नेशनल चैम्बर के अध्यक्ष श्रीकिशन गोयल, उपाध्यक्ष द्वय मनोज बंसल, संजय गोयल व कोषाध्यक्ष अनूप जिन्दल के साथ पूर्वअध्यक्षों, सदस्यों एवं विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारियों द्वारा बुके व पुष्पाहार से स्वागत व अभिनन्दन किया। चैम्बर अध्यक्ष श्रीकिशन गोयल ने बताया कि आयकर विभाग औद्योगिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करता है। उद्योगों के विकास के लिए व्यवहारिक कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए विभिन्न योजनाएं बनाकर सहयोग प्रदान करता है।

आयकर प्रकोष्ठ के चेयरमैन अनिल वर्मा ने आगरा के उद्योगों के समक्ष चल रही विषम परिस्थितियों से अवगत कराया व अनुरोध किया कि बजट के लक्ष निर्धारण मंे आगरा के लिए इन परिस्थतियों का ध्यान रखा जाये क्योंकि आगरा के व्यापार में वृद्धि के अवसर नहीं के बरावर हैंै। प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त महोदय ने आश्वासन देते हुए कहा कि राजस्व प्राप्ति हेतु लक्ष निर्धारण में आगरा की परिस्थितियों को ध्यान में रखने के लिए सरकार में उच्च स्तर पर सकारात्मक कार्यवाही के प्रयास किये जायेंगे। साथ ही करदाताओं से यह भी अपील की लक्ष निर्धारण से चिन्ता न करते हुए इमानदारी से कर का भुगतान करें, समय से विवरणी जमा करें। करापंचन एवं कर से बचाव दोनों ही अपराधिक हैं। अधिवक्ताओं, प्रोफेशनल्स से यह अपील की कि राजस्व प्राप्ति में वे विभाग को सहयोग करें। नियमों की सही व्याख्या ही करें। उन्होंने यह भी अश्वासन दिया कि वे आगरा में प्रदूषण रहित उद्योंगो की स्थापना के लिए भी प्रयास किये जायेंगे। क्षेत्रीय सलाहकार समिति में चैम्बर के प्रतिनिधित्व की मांग पर भी सकारात्मक कार्यवाही जायेगी ताकि उद्यमियों व व्यापारियों तथा विभाग के मध्य अच्छा समन्वय बना रहे। ट्रस्ट एवं सामाजिक संस्थाओं को धारा 12-ए में विधिमान्य छूट देने के लिए बैठक के दौरान ही संबन्धित अधिकारी को निर्देश जारी किये।

इस अवसर पर आयकर विभाग से प्रधान आयकर आयुक्त प्रथम श्रीमती रेनू जौहरी, प्रधान आयकर आयुक्त द्वितीय जयन्त मिश्र के अतिरिक्त आयकर आयुक्त (ए) राजर्षि द्विवेदी, सुनील बाजपेयी, श्रीमती सीता श्रीवास्तव, कविता मीना, बेलू सिन्हा, ज्योत्सना देवी, वसीम अरसाद, अनिल कुमार शर्मा, राजेश गुप्ता, डा0 एस के अरेला तथा अन्य अधिकारी मौजूद थे। चैम्बर के पदाधिकारियों के अलावा आईसीएआई के अध्यक्ष सीए सुदीप जैन, टैक्सेशन बार एसो0 के अध्यक्ष रवि प्रकाश अग्रवाल भी मंच पर आसीन थे।धन्यवाद ज्ञापन पूर्वअध्यक्ष अमर मित्तल द्वारा दिया गया।

चैम्बर के पूर्वअध्यक्ष राजकुमार अग्रवाल, अमरनाथ कौशल, सीताराम अग्रवाल, प्रदीप कुमार वाष्र्णेय, योगेन्द्र कुमार सिंघल, प्रमोद अग्रवाल, महेन्द्र सिंघल, मनीष अग्रवाल, अतुल कुमार गुप्ता, अशोक कुमार गोयल, नरिन्दर सिंह, निर्वतवान अध्यक्ष राजीव तिवारी, सदस्यों में एफमैक के अध्यक्ष पूरन डावर, ट्रांसपोर्ट चैम्बर के अध्यक्ष वीरेन्द्र गुप्ता, टी एन अग्रवाल, रवीन्द्र पाल सिंह टिम्मा, अवनीष कौशल, राजेश अग्रवाल, राजेन्द्र गर्ग, राजकुमार भगत, यतेन्द्र कुमार गुप्ता, एम एम अग्रवाल, दीपक महेश्वरी, अनिल शाह, राकेश चैहान, राकेश सिंघल, अर्जुन गुप्ता, आनन्द भगत, मुरारी लाल गोयल, अनूप गोयल, संदीप अरोड़ा, मयंक मित्तल, अनिल कुमार अग्रवाल, योगेश सिंघल, रवीन्द्र शाह, राजकिशोर खंडेलवाल, रूपकिशोर अग्रवाल, रजनीकांत वर्मा, सीए प्रार्थना जालान, सीए जितेन्द्र मोहन, अनुराग सिन्हा, राजीव चंदेल, राजीव अग्रवाल आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *